दिसम्बर 2nd, 2008 के लिए पुरालेख

मनोशी चैटर्जी की ग़ज़ल उन्हीं के मधुर सुरों में

दिसम्बर 2, 2008

ruins-5



यदि आप ऊपर के प्लेयर पर नहीं सुन पा रहे हो तो यहां पर क्लिक कीजिये।

यदि आपको Internet Explorer में खुलने में कठिनाई हो तो Firefox खोलिए।

दुआ में मेरी कुछ यूँ असर हो

तेरे सिरहाने हर इक सहर हो

जहां के नाना झमेले सर हैं
कहाँ किसी की मुझे ख़बर हो

यहाँ तो कुछ भी नहीं है बदला
वहाँ ही शायद नई ख़बर हो

मिले अचानक वो ख़्वाब मे कल
कहीं दुबारा न फिर कहर हो

दिलों दिलों में भटक रहे हैं
कहीं तो अब ज़िंदगी बसर हो

न याद कोई जुड़ी हो तुम से
कहीं तो ऐसा कोई शहर हो

चलो चलें फिर से लौट जायें
शुरु से फिर ये शुरु सफ़र हो

मनोशी चैटर्जी

Advertisements