स्वतन्त्रता-दिवस पर शुभकामनाएं

red-fort-delhi3.jpg

रामधारी सिंहदिनकर

ध्वज-वंदना

tiranga2.gif

नमो, नमो, नमो।

नमो स्वतंत्र भारत की ध्वजा, नमो, नमो !
नमो नगाधिराजश्रृंग की विहारिणी !
नमो अनंत सौख्य-शक्ति-शील-धारिणी!
प्रणय-प्रसारिणी, नमो अरिष्ट-वारिणी!
नमो मनुष्य की शुभेषणा-प्रचारिणी!
नवीन सूर्य की नयी प्रभा,नमो, नमो!

हम किसी का चाहते तनिक, अहित, अपकार।
प्रेमी सकल जहान का भारतवर्ष उदार।
सत्य न्याय के हेतु
फहर फहर केतु
हम विचरेंगे देश-देश के बीच मिलन का सेतु
पवित्र सौम्य, शांति की शिखा, नमो, नमो!

 

तार-तार में हैं गुंथा ध्वजे, तुम्हारा त्याग!
दहक रही है आज भी, तुम में बलि की आग।
सेवक सैन्य कठोर
हम चालीस करोड़ *
कौन देख सकता कुभाव से ध्वजे, तुम्हारी ओर
करते तव जय गान
वीर हुए बलिदान,
अंगारों पर चला तुम्हें ले सारा हिन्दुस्तान!
प्रताप की विभा, कृषानुजा, नमो, नमो!

रामधारी सिंहदिनकर

प्रेषक- महावीर शर्मा

( * जिस समय यह काविता लिखी गयी थी, उस समय भारत की जन-संख्या चालीस करोड़ थी।)

Advertisements

4 Comments »

  1. स्वतंत्रता दिवस की बधाई व शुभकामनाएं

  2. आपको भी शुभकामनाएँ दद्दा।

  3. 3

    आदरणीय महावीर जी,
    प्रणाम.
    मैं अस्‍सी के दसक में आपकी रचनायें पढते रहा हूं उस समय आपके शव्‍द मुझे बहुत प्रभवित करते थे, स्‍मृति में भाव तो हैं शव्‍द खो गये हैं, अब आपकी रचनाओं को पुन: यहां पढने की लालसा है ।
    संजीव

  4. 4

    महावीरजी
    आपकी हर रचना एक अर्थपूर्ण भाव लिए होती है पर मेरा बागी मन कभी इन बंधनों की घुतान से रिहाई व आजादी की तलब कर बैठता है.

    अपनी आज़दिओं को हमने अपने ख्वैशों के जाल में जकड रखा है. इस मुक्ति का समाधान ही हमारी साची आज़ादी होगी.
    सादर
    देवी नागरानी


RSS Feed for this entry

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: